Naag Panchami Ki Kahani, नाग पंचमी की कहानी, 25 July 2020

By | July 26, 2020
Naag Panchami Ki Kahani, नाग पंचमी की कहानी, 25 July 2020

Naag Panchami Ki Kahani, नाग पंचमी की कहानी, Naag Panchami Katha

नमस्कार दोस्तों प्राचीन काल में किस नगर में सेट जी रहते थे उनके 7 पुत्र थी और 7 पुत्र शादीशुदा थी 7 के बहू में सब छोटी बहू सबसे ज्यादा विदुषी सुशील और संस्कारी थी 1 दिन से बड़ी बहू ने सभी देव रानियों से कहा कि आज घर को लिपने के लिए पीली मिट्टी लेकर आते हैं सबी बहू दलिया और Naag Panchami Ki Kahani, खुरपी लेकर मिट्टी लेने चली गई जब हुई मिट्टी खोदने लगी तब वहां एक सांप निकला बड़ी बहू सांप को खुरपी मारने लगी तो छोटी बहू बोली मत मारो इसे यह बेचारा तो मेरे अपराध है !

यह सुनकर बड़ी बहू ने सबको नहीं मारा तब सांप एक और बैठ गया छोटी बहू ने सांप से कहा आप यहां से जाना मत मैं अभी आती हूं ऐसा छोटी बहू सांप के लिए दूध लेने चली गई घर पहुंचकर वह अपने कामों में लग गई और सांप किया वादा भूल गई अगले दीन उसे यह बात याद आई तब से दूध लेकर वहां पहुंची तब उसने देखा सांप तो वहीं बैठा है !

सांप को देखकर वह बोली मुझे माफ कर दो मैं अपने कार्य में लग गए आप से किया वादा भूल गई तब सांप बोला मुझसे झूठ बोलने के लिए मैं अभी तुझे टकली था लेकिन तूने मुझे भैया कहा है इसलिए मैं तुझे छोड़ रहा हूं और आज से तू मेरी बहन हुई तुझे तू चाहिए मांगले छोटी बहू बोली भैया मेरा कोई नहीं है !

naag panchami, nag panchami date, naag panchami 2019
, Naag Panchami Ki Kahani,

मुझे एक भाई मिल गया मुझे और कुछ नहीं चाहिए मैं अपने भाई को पुकारूं तुम चली आना कुछ दिनों बाद सावन के महीने में सेट जी बहू आपन-आपन पीहर जाने लगी और छोटी बहू से बोली तेरा कोई भी पीहर नहीं है तो कहां जाएगी यह सुनकर छोटी बहू बहुत रोती है !

तभी बेह सांप अपने एक मनुष्य का रूप धारण करके उसके घर आया और बोला मेरी बहन को भेज दो सब ने कहा इसका तो कोई भाई नहीं है तो वह बोला मैं दूर के रिश्ते का भाई लगता हूं इस तरह विश्वास दिलाने पर घर के लोगों ने छोटी बहू को उसके साथ भेज दिया !

रस्ते में छोटी बहू को बताया बेहान मैं तुम्हारा भाई सांप हूं और तुम्हें अपने साथ अपने घर ना ब्लॉक ले जाने आया हूं तुम डरना मत तुम मेरी पूछ पकड़ लो छोटी बहू ने सांप के कहे अनुसार किया जैसे ही वह ना ब्लॉक पहुंची ना ब्लॉक के धन ऐश्वर्य को देखकर छोटी बहू चकित रह गई सांप उसे अपनी माता के पास ले गया और बोला माता यह मेरी बहन है इसने मेरी जान बचाई थी और यह कुछ दिन हमारे साथ रहने आई है !

nag panchami, nag panchami 2019, naga panchami, Naag Panchami Ki Kahani,

सांप माता ने छोटी बहू को गले से लगा लिया अब वहां खुशी खुशी देने लगी वहां से शेषनाग कि वह छोटे-छोटे बच्चे जन्मे हुए थे वह रोज देखती की मां दूध को ठंडा कर कर घंटी बचाती घंटी की आवाज सुनकर भी बच्चे वहां आकर दूध पी लेते थे एक दिन वह मां सी बोलो आज मैं दूध ठंडा कर देती हूं अभी दूध ठंडा भी नहीं हुआ था कि उसने जल्दबाजी में घंटी बजा दी घंटी की आवाज सुनकर छोटे छोटे सांप दौड़ पड़ी दूध पीते हैं !

कायो फैन जल गए तभी सांप बोले हम डसना परंतु मां के समझाने पर बच्चे मान गए तब उसके भाई सांप अपनी और उसकी मां ने छोटी बहू को हीरे मोती और जवाहरात देकर उसे विदा किया इतनी सारी धन-दौलत देकार बड़ी बहू बोली भाई ने इतनी सारी दौलत दी है तो इसे झाड़ने के लिए एक सोने की झाड़ू भी दे देता यह सुनकर !

सांप की झाड़ू भी ला कर दे दी और उसकी मां की तरफ से हीरे मोती और मणियों का एक अद्भुत हरदी दिया उस हर की प्रशंसा तारे नगर में होने लगी जब यह प्रशंसा नगर की रानी ने सुनी तो हार को पहनने की इच्छा उसने राजा को बताई राजा ने तुरंत अपने सैनिकों को वह हरv लेने भेज दिया राजा की दर से सेट जी छोटी बहू का हार सैनिकों को दे दिया इस बात पर छोटी बहू बहुत दुखी हुई और अपने भाई सांप को याद करके उसे सारी बात बताई सांप बोला बहन दुखी मत हो राजा खुद तुम्हें बिह हर लौटाने आएंगी रानी ने जैसे ही वह हार पहना वह हार सांप बन गया और रानी ने डरकर वह हर पैक दिया !

naag panchmi in 2019, nag panchami 2019 date, Naag Panchami Ki Kahani,

यह देखकर राजा ने छोटी बहू को उपस्थित होने का आदेश दिया सेट जी खुद छोटी बहू को लेकर गए राजा ने छोटी बहुत पुचा तुमने क्या काला जादू किया है छोटी बहू बोली राज मुझे क्षमा कीजिए यह हार ऐसा ही है यह हार मुझे मेरे भाई ने दिया है इतनी देर में वह नाग वहां प्रकट हो गया ना बोला यह मेरी बहन है और यह हार मैंने बेहन दिया जिसे लॉग देखकर नाग देवता को प्रणाम किया क्योंकि पंचमी तिथि थी इसलिए उस दिन थे ना पंचमी का त्योहार मनाया जाता है तभी तो तभी स्त्रियां सांप को अपना भाई मानकर उनकी पूजा करती हैं !

read more stories in Hindi

0 thoughts on “Naag Panchami Ki Kahani, नाग पंचमी की कहानी, 25 July 2020

  1. Pingback: जादुई कलश | Jadui Kalash | Magical Pot story Hindi

  2. Pingback: जादुई भूतिया लूडो हिंदी कहानियां Magical Bhutiya Ludo Hindi Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *