भूतिया मोटू पतलू Moral Stories Fairy tale moral story

By | August 13, 2020
भूतिया मोटू पतलू Moral Stories Fairy tale moral story

भूतिया मोटू पतलू Motu Patlu Bhutiya Kahani हिंदी कहानियां Hindi Kahaniya Moral Stories Fairy tale

एक बार की कहानी है ढोलकपुर नामक गांव में मोटू पतलू भूत अचानक हमला कर देते हैं और जो भी बच्चा या गांव का कोई भी व्यक्ति फंसा उसे उठाकर नदी में फेंक देते हैं उन दोनों के डर से गांव वाले इधर-उधर भागने लगते हैं और कहते हैं अरे भगो भाई अपनी अपनी जान बचाकर भगो पता नहीं गांव पर किस का साया है Moral Stories Fairy tale कभी भूत आ जाते हैं तो कभी चुड़ैल आ जाती है भगो कार वे सभी अपने घरों में छुप जाते हैं तब मोटू पतलू भूत से कहता है होम अगार गांव |

पार राज करना है हमें गांव वालों को नदी में बैठना होगा और फिर हम इस गांव में आराम से रहेंगे तभी रहे दोनों और गांव वालों को पकड़कर नदी में फेंकने के लिए आगे बढ़ते हैं उन्हें रास्ते में जो भी मिला उन्होंने उसे उठाकर नदी में फेंकना शुरू कर दिया वह उन किसानों के पशुओं को भी नदी में फेंकने लगे गांव वाले उन दोनों भूत के डर से थर थर कांपन |

fairy tale stories, very short fairy tales story, short story fairy tale moral stories

लगत हैं तभी पतलू भूत कहता है मोटू भाई मैं तो थक गया अब तुम्हें आराम करने जा रहा हूं मोटो को कहता है ठीक है भाई चलो आराम कर लेते हैं फिर दोबारा आएंगे और सभी को नदी में फेंक देंगे ऐसा कहते ही वह दोनों आराम करने के लिए चले जाते हैं उनकी है सारी बात एक बच्चा सुन रहा होता है वह बच्चा सभी गांव वालों को बताता है सुनो गांव वालों हम सब को जल्दी से यहां से भाग जाना चाहिए वह दोनों बहुत आराम करने गए हैं गया दोबारा आ गए तो हम में से कोई नहीं बचेगा बच्चे की है बात सुनकर कुछ गांव वाले अपना सामान उठा कर वहां से भाग जाते हैं लड़के के माता-पिता कहते हैं हमारा तो दूसरे गांव में कोई भी नहीं है और ना ही हमारे पास पैसे और खाना है अगर हम यह गांव छोड़कर गए तो भूख से मर जाएंगे और अगर यहां रहे तो वह भूत में मार देंगे हमारी जिंदगी में तो मरना ही लिखा है इतना कहते ही वहां एक भिक्षुक महाराजा जाते हैं |

भिक्षुक महाराज कहते हैं भिक्षां देहि बच्चा महाराज को भूख लगी है तभी वह लड़का घर में जो कुछ भी था वह भिक्षुक महाराज को खाने के लिए दे देता है भिक्षुक महाराज कहते हैं क्या बात होती उदास नजर आ रहे हो और इस गांव में कोई रहता नहीं है क्या पूरा गांव सुनसान लग रहा है तभी रहे लड़का भिक्षु को सारी बात बता देता है जैसे ही वह भिक्षुक को बात बताता है वह दोनों मोटू पतलू भूत आराम करने के बाद वहां पहुंच जाते हैं और उन्हें उठाने के लिए आगे बढ़ते हैं तभी वह भिक्षुक सारी बात समझ जाता है और उन्हें शॉप देता है भिक्षुक महाराज कहता है रुक जाओ वहीं पर मैं तुम्हें शॉप देता हूं कि तुम इस गांव की जो भी वस्तु उठाओगे वह भारी हो जाएगी और तुम उसे उठाकर नदी में नहीं फेक पाओगे फिर क्या था जैसे ही वह मोटू पतलू भूत एक व्यक्ति को पकड़कर उठाते हैं तो वे उनसे उठाया नहीं जाता मोटू भूत कहता है |

short story fairy tale moral stories, neasy short fairy tales, Moral Stories Fairy tale

अरे भाई कुछ गड़बड़ है यह गांव वाले बहुत चलाक बन रहे हैं इन्हें तो सबक सिखाना होगा ऐसा कहते ही वह दोनों नदी के पास जाकर वहां से एक कटीला पेड़ उखाड़ कर और गांव में हर जगह उसके कांटे बिखेर देते हैं और उस पेड़ को चौराहे पर गार्ड देते हैं गांव में हर जगह कांटे ही कांटे होने की वजह से गांव वालों को बड़ी परेशानी होती है भिक्षुक यह सब देख लेता है तभी भिक्षु के आशीर्वाद से वह कटीला ब्रिक्स एक सोने और पैसे के पेड़ में बदल जाता है और गांव वालों की मदद करने लगता है सभी गांव वाले खुशी-खुशी उस पेड़ से सोने और पैसे तोड़ कर अपना जीवन अच्छे से बिताने लगते हैं यह सब दृश्य देखकर मोटू पतलू बहुत आग बबूला हो जाते हैं मोटू भूत कहता है इस भिक्षुक ने तो हमारे सारे किए कराए पर पानी फेर दिया लेकिन इस गांव में एक लालची इंसान भी रहता है |

हमें उसे अपने जाल में फासना होगा और उससे यह पेड़ कटवाना होगा नहीं तो गांव वालों के मन से हमारा डर मिट जाएगा और हम इस गांव पर राज नहीं कर पाएंगे ऐसा कहते ही मैं उस लालची व्यक्ति को अपने जाल में फंसाने में कामयाब हो जाते हैं और जैसे ही वह लालची व्यक्ति उस सोने और पैसे के पेड़ को काटने लगता है मोटू भूत पतलू भूत और लालची व्यक्ति पेड़ से बंद हो जाते हैं फिर क्या था वह सभी जोर-जोर से चिल्लाने लगते हैं बचाओ हमें बचाओ कोई हमें बताओ हमें इस दुष्ट पेड़ में बांध लिया है कृपया करके हमें बताओ फिर क्या था उनकी यह आवाजें सुनकर भिक्षुक महाराज और गांव वाले इकट्ठा हो जाते हैं मोटू भूत कहता है हमें छोड़ दो हमें जाने दो आज के बाद हम किसी को परेशान नहीं करेंगे किसी को भी नदी में नहीं फेंकगे हम यह वादा करते हैं कि हम यहां से चले जाएंगे फिर |

भिक्षुक महाराज एक मंत्र का उच्चारण करते हैं और वह मोटू पतलू भूत और वह लालची व्यक्ति पेड़ से आजाद हो जाते हैं मोटू पतलू भूत दुम दबाकर वहां से भाग जाते हैं और गांव वाले भिक्षुक महाराज का शुक्रिया अदा करते हैं !

Tags: fairy tale stories, Moral Stories Fairy tale ,very short fairy tales story, short story fairy tale moral stories,neasy short fairy tales,bmoral stories in english fairy tales, stories, very short fairy tales story, Moral Stories Fairy tale ,fairy tale short stories for, short story fairy tale short stories in english, short story moral stories, fairy tale stories, very short fairy tales pdf, easy short fairy tales, fairy tales short story summary, Moral Stories Fairy tale

0 thoughts on “भूतिया मोटू पतलू Moral Stories Fairy tale moral story

  1. Pingback: जादुई आमका पेड़ Magical Mango Tree Hindi Kahaniya - Moral stories in Hindi %

  2. Pingback: Best Motivational stories by Deepak Daiya - Motivational stories %

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *