महाशिवरात्रि व्रत कथा Mahashivratri vrat Katha शिवरात्रि की कहानी

By | March 7, 2021
Traditional katha, Ganga bhakti, Vratparvatyohar, Kahani, Katha, Stories, Shivratri Story, Maha Shivratri Story, Shivratri Ki Kahani, Mahashivratri Ki Kahani, Shivratri Vrat Katha, Maha Shivratri Vrat katha, महाशिवरात्रि व्रत कथा, शिवरात्रि की कहानी, Shivratri, Shivratri puja, Shivratri Pujan Vidhi, Lord Shiva, Shiv Ji

Mahashivratri vrat Katha: नमस्कार दोस्तों आज हम आपके लिए महाशिवरात्रि की व्रत कथा लेकर आए हैं प्राचीन काल में किस जंगल में एक गुरु ध्रुव नाम का शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों का शिकार करता था अपने परिवार का भरण पोषण शिकार से किया करता था एक बार शिवरात्रि के दिन जो गुरु ध्रुव शिकार के लिए निकला तब संयोगवश पूरे दिन पूछने के बाद भी उसे कोई शिकार ना मिला इस प्रकार दिन भर भूखे प्यासे शिकारी का शिवरात्रि का व्रत हो गया

महाशिवरात्रि व्रत कथा Mahashivratri vrat Katha शिवरात्रि की कहानी Shivratri

महाशिवरात्रि व्रत कथा Mahashivratri vrat Katha शिवरात्रि की कहानी Shivratri

उसके बच्चे पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा इस बात से वह चिंतित था सूर्यास्त होने पर वह एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे पेड़ पर थोड़ा सा पीने के लिए पानी लेकर चल गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई ना कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए बाहर जरूर आएगा वह पेड़ भी पत्र का था और उस पेड़ के नीचे एक शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्र से ढका होने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था रात का पहला पहर बीतने से पहले एक हिरनी वहां पानी पीने के लिए आई उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा ऐसा करने से उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते और जल की कुछ बूंदे नीचे शिवलिंग पर गिर गई अनजाने

Read More: चींटी और कबूतर की कहानी, hindi short stories for class 1

में शिकारी के पहले पहर की पूजा हो गई पत्तों की आवाज से हिंदी में जो ऊपर देखा तो भयभीत होकर शिकारी से कांपते हुए स्वर में बोली मुझे मत मारो शिकारी ने कहा मैं और मेरा परिवार भूखा है इसलिए तुम्हें नहीं छोड़ सकता है नहीं भयभीत होकर शिकारी से जीवनदान की याचना करने लगी बोली मेरे छोटे-छोटे बच्चे हैं और मेरे वापस लौटने का इंतजार कर रहे हैं मैं उन्हें अपने पति को साथ आओ फिर तुम मुझे मार देना मुझे बस इतना समय दे दो झूठ नहीं बोल रही तो मुझ पर विश्वास करो मैं शीघ्र ही लौट आऊंगी अगर मैं लौट कर ना आऊं तो मुझे वह बात लगी जो विश्वासघाती और शिव द्रोही को लगता है

mahashivratri ki katha, mahashivratri vrat katha in hindi

इस प्रकार किसी के विश्वास दिलाने पर शिकारी ने उसे जाने दिया और हिंदी वहां से चली गई कुछ देर बाद शिकारी ने देखा कि एक मोटा ताजा हिरण जल पीने वहां आया है उसने फिर से अपने धनुष पर बाण चढ़ाया और फिर से कुछ जल और बेलपत्र शिवलिंग पर चढ़ गए इस प्रकार शिकारी की दूसरे पहर की पूजा भी हो गई धनुष पर बाण चढ़ा देख हिरण ने पूछा यह तुम क्या कर रहे हो मैं घर पर अपने बच्चों को छोड़ कर आया हूं मुझे इतना समय दे दो कि मैं अपने बच्चों को धैर्य देकर शीघ्र लौट आओ तो मुझ

Read more: भूतिया Society, Haunted Apartment, Kahaniya in Hindi, Horror 2021

पर विश्वास रखो शिकारी ने हिरण को जाने दिया हिरण जल्दी कर वहां से चला गया अब दोनों हिरण घर जाकर जब इकट्ठे हुए तो अपना अपना वृत्तांत एक दूसरे को सुनाते हुए बोली हमें जल्द ही शिकारी के पास लौटना है अपने बच्चों को धैर्य देकर जो वह चलने को तैयार हुए सबसे पहले हिंदी बोली मैं शिखा अभी के पास जाऊंगी और आप मेरे बच्चों का ख्याल रखना ही नहीं की बात सुनकर हिरण बोला मां के बिना बच्चों को कोई नहीं संभाल सकता तुम यहीं रहो मैं शिकारी के पास जाऊंगा तब हिरनी बोली पति के बिना पत्नी का कैसा जीवन आपकी मृत्यु के बाद में कैसे जीवित रहूंगी मैं वहां अवश्य जाऊंगी और वह दोनों बच्चों को समझा कर चल पड़े जब बच्चों ने देखा माता-पिता जा रहे हैं |

mahashivratri katha in hindi, mahashivratri ki vrat katha

तो हम क्या करेंगे तब वह भी उनके साथ हो लिए इस प्रकार वे सभी शिकारी के पास पहुंचे उन्हें देखकर शिकारी ने झट से धनुष पर बाण चढ़ाया जिससे फिर कुछ भी पत्र और जल शिवलिंग पर चढ़ गया जिससे शिकारी के तीसरे पहर की पूजा भी हो गई और उसके दुष्कर्म नष्ट हो गए और उसे ज्ञान की प्राप्ति हुई हिरण ने कहा हम सभी उपस्थित हैं आप हमारा वध करके अपने परिवार की भूख मिटाई ए सब भगवान शंकर की कृपा से प्राप्त

Read more: कैसे हुआ विक्रम बेताल का अंत वो आखरी कहानी जो कभी नहीं दिखाई गई vikram betal stories

ज्ञान द्वारा शिकारी सोचने लगा मुझसे तो यह अज्ञानी परसों ही धन्य हैं जो कि परोपकार परायण हूं अपना शरीर दे रहे हैं और मैं मनुष्य जन्म पाकर भी हत्यारा बन चुका हूं यह सोचकर शिकारी बोला तुम सभी धन्य हो तुम्हारा जीवन सफल है जाओ मैं तुम्हें नहीं मारता तुम निर्भय होकर यहां से जाओ शिकारी के ऐसा कहते ही स्वयं भोलेनाथ वहां प्रकट हुए और बोले मैं तुमसे प्रसन्न हूं मनचाहा वर मांगो यह सुनकर शिकारी मां के चरणों में गिर पड़ा आंखों से आंसू बहने लगे भगवान शंकर ने उसे सुख समृद्धि का वरदान देकर गुरु नाम प्रदान किया दोस्तों यह वही गुरु था जिसके साथ भगवान श्रीराम ने मित्रता करी थी तो दोस्तों कैसी लगी आपको आज की हमारी महाशिवरात्रि व्रत की कहानी हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर |

horror stories in Hindi

महाशिवरात्रि व्रत कथा Mahashivratri vrat Katha| watch video

video credit: bhakti gyan

2 thoughts on “महाशिवरात्रि व्रत कथा Mahashivratri vrat Katha शिवरात्रि की कहानी

  1. Pingback: महाशिवरात्रि व्रत कथा शिवरात्रि की कहानी Mahashivratri vrat Katha - Moral stories in Hindi

  2. Pingback: चुड़ैल का दहेज़ The Greedy Man Witch Horror Story - Moral stories in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *