कुसंगति-का-परिणाम Kusangti ka Parinaam Kahani Hindi Kahaniya

By | March 1, 2021
कुसंगति-का-परिणाम Kusangti ka Parinaam Kahani Hindi Kahaniya
कुसंगति-का-परिणाम Kusangti ka Parinaam Kahani Hindi Kahaniya

कुसंगति-का-परिणाम Kusangti ka Parinaam Kahani Hindi Kahaniya

कुसंगति का परिणाम किसी किसान के पास एक था वह दिनभर ऊंट से काम लेता परंतु चारा पानी भर देता रात के समय भूत को खोल देता गांव के बाहर इधर उधर भटक कर पेड़ों की पत्तियां खाकर अपना पेट भरता किसान उसे पकड़कर ऊंट दिनभर किसान के खेत में काम करता उसकी गाड़ी खींचता परंतु किसान था कि उसके परवाह न करता था

Hindi horror story serial Hindi hit Karen hamari website

यूं ही दिन बीत रही थी एक रात उनकी भी प्यार से हुई सियार ने उससे मित्रता कर लिया तथा टिप्पणी डील डौल का यह प्राणी कुछ भी पता ना चला सियार और ऊंट रात को मिलने लगे सियार ऊंट के प्रति सहानुभूति प्रकट करता और उसे अपने प्रति होने वाले अत्याचार का वर्णन करता एक रात सियार ने उससे लाभ उठाने का निर्णय कर ही लिया रात के समय जब उसकी भी उनसे हुई तो वह बोला भाई तुम यह पत्तियां खा खा कर सकते आपको सताते रहोगी क्या तुम ही स्वादिष्ट वस्तु ही खाने का शौक नहीं है|

Panchtantra ki Kahaniya, Hindi Kahaniya, moral stories in Hindi

यार मेरे भाग्य में कहां है यह सब तुम्हें मुझे तो पत्तियां मिल जाए यही बहुत है यार को खबर मिली थी कि नदी पार खेत में बहुत तरबूज और खरबूजे हैं उन्हें खाना चाहता था परंतु नदी पार करना उसके मिला था अभी करके नदी सरलता से पार की जा सकती थी नहीं नहीं मैं तुम्हें इस प्रकार दुखी होते नहीं देख सकता आज मैं तुम्हें दावत दूंगा नदी पार मेरे मित्र का खेत है

मुझे अपनी पीठ पर बैठाकर नदी के पार चलो वहां उसने स्वादिष्ट तरबूज और खरबूजे होगा और उसके बातों में आकर से अपनी पीठ पर बैठाकर चल दिया नदी बाहर जाकर ऊंट ने सियार को अपनी पीठ से उतार दिया फिर से कहा कि इन खेलों में ही निर्भय होकर तरबूज खरबूजा खा सकता है यार एक और जाकर खाने लगा जल्दी जल्दी खा रहा था कि कहीं खेत के रखवाले उसे देखना उसे शीघ्र ही अपना पेट भर दिया परंतु अभी तक खा रहा था

personalized children’s books, audio books for kids

बड़ा कार होने से उसे पेट भरने लगती है काफी देर हो गई तो सियार ने सोचा सहर्राहत खाता ही रहेगा स्वर निकाल कर रख वालों को जगा दो वैसे मार के निकाल देंगे और यह वापस चलने को मजबूर हो जाएगा उसने ऐसा ही किया सियार का ऊंचा स्वर सुनकर रखवाले छा गए उन्होंने देखा कि सारी फसल चटकी चौराहे से ऊंट को बहुत मारा छिपकर सारा तमाशा किस प्रकार कुसुम के कारण को न केवल चोरी का कुछ नहीं लंगड़ा तो हुआ खेत उसे बाहर भागा और सियार को वहीं छोड़कर नदी में प्रवेश करके

video credit: kidda tv

read more stories

Princess Chandralekha Vikram or Betal Ki Kahani

Important Money Lessons to Teach Your Children | Teaching Tips

Best Tips to Prepare your Child for Online Learning Education

3 thoughts on “कुसंगति-का-परिणाम Kusangti ka Parinaam Kahani Hindi Kahaniya

  1. Pingback: कैसे हुआ विक्रम बेताल का अंत वो आखरी कहानी जो कभी नहीं दिखाई गई vikram betal stories - Akbar birbal stories

  2. Pingback: भूतिया Society, Haunted Apartment, Kahaniya in Hindi, Horror 2021 - Moral stories in Hindi

  3. Pingback: Top 251 Best Moral Stories in Hindi 2021 नैतिक कहानियाँ हिंदी में - Akbar birbal stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *