देवउठनी एकादशी व्रत कथा Dev Uthani Ekadashi 25 November 2020

By | November 25, 2020
78 / 100
Dev Uthani Ekadashi 25 November 2020
Dev Uthani Ekadashi 25 November 2020

Dev Uthani Ekadashi 25 November 2020 नमस्कार दोस्तों कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहा जाता है आज हम इस में देव उठनी एकादशी व्रत कथा सुनाई की कि एक समय की बात है !

एक राजा के राज्य में सभी लोग एकादशी का व्रत रखते थे और नौकर चक्रों से लेकर पश्चिम तक को एकादशी के दिन नहीं दिया जाता था एक दिन कि से दूसरे राज्य से एक व्यक्ति राजा के पास आकर बोला महाराज कृपा करके मुझे नौकरी पर रखने तब राजा ने उसके सामने एक शर्त रखी ठीक है !

Dev Uthani Ekadashi 25 November 2020

रख लूंगा लेकिन रोज तो तुम्हें खाने को सब कुछ मिलेगा लेकिन एकादशी को अन्न का एक दाना नहीं मिलेगा उस व्यक्ति ने हा कर ली पर एकादशी उसे फलाहार का सामान दिया गया तो वह राजा के पास जाकर बोला महाराज इससे मेरा पेट नहीं भरेगा मैं भूखा है !

भूतिया मोटू पतलू Moral Stories Fairy tale moral story

मर जाऊंगा मुझे अन्न दे दो राजा ने उसे शर्ट की बात याद दिलाई पर वह अन्न होने को राजी नहीं हुआ तब राजा ने उसे आटा दाल चावल आदि दे दिए और वह रोज की तरह नदी पर पहुंचा वहां स्नान करके भोजन पकाने लगा जब भोजन बन गया तो भगवान को बुलाया और भगवान प्रशांत भूषण है !

उसके बुलाने पर पीतांबर धारण किए हुए भगवान चतुर्भुज रूप में उसके सामने आ गए और प्रेम से उसके साथ भोजन करने लगी भोजन करने के बाद भगवान अंतर्धान हो गए और वह अपने काम पर चला गया 15 दिन बाद अगली एकादशी को वह राजा से कहने लगा !

महाराज मुझे दुगना सामान दीजिए उस दिन तुम्हें भूखा ही रह गया जब राजा ने इसका कारण पूछा तो उसने बताया कि मेरे साथ भगवान की खाते हैं इसलिए हम दोनों के लिए यह सामान पूरा नहीं पड़ता यह सुनकर राजा को बहुत आश्चर्य हुआ वह बोला मैं नहीं मान सकता कि भगवान तुम्हारे साथ खाते हैं !

पिज़्ज़ा हेलीकाप्टर Giant Pizza Helicopter Delivery, हिदी कहानिय Hindi Kahaniya

मैं तो इतना व्रत रखता हूं पूजा करता हूं और भगवान ने मुझे कभी दर्शन नहीं दिए राजा की बात सुनकर बोला महाराज यदि विश्वास ना हो तो मेरे साथ चल कर देख लो राजा एक पेड़ के पीछे छुप कर बैठ गया उस व्यक्ति ने भोजन बनाया और भगवान को शाम तक पुकारता रहा करता रहा परंतु भगवान नहीं आए अंत में उसने कहा हे !

भगवान नहीं नहीं आए तो मैं नदी में कूदकर अपने प्राण त्याग कर दूंगा लेकिन फिर भी भगवान नहीं आए जब प्राण त्यागने के उद्देश्य से नदी की तरफ बढ़ा और प्राण त्यागने का उसका इरादा जानकर भगवान शीघ्र ही प्रकट हो गए !

और उन्होंने उसे रोक लिया और उसके साथ बैठ बैठकर भोजन करने लगे और उसे अपने विमान में बैठा कर अपने साथ अपने धाम ले गए यह देखकर राजा ने सोचा कि व्रत उपवास से तब तक कोई फायदा नहीं होता !

कराटेवाला Hindi Kahaniya, Panchtantra Stories

जब तक हमारा मन शुद्ध ना हो इससे राजा को ज्ञान मिला वह भी सच्चे मन से व्रत और उपवास करने लगा और अंत में स्वर्ग को प्राप्त हुआ तो दोस्तों कैसी लगी आपको आज की यह कहानी ऐसी और कहानी के लिए website धन्यवाद !

bhakti gyan

4 thoughts on “देवउठनी एकादशी व्रत कथा Dev Uthani Ekadashi 25 November 2020

  1. free xxx movies

    Hi, i feel that i saw you visited my site so i came to go back the favor?.I’m trying to in finding things to enhance my web site!I assume its
    adequate to make use of some of your ideas!!

    Reply
  2. free porn clips

    Hey I am so excited I found your web site, I really found
    you by mistake, while I was searching on Digg for something else, Nonetheless I
    am here now and would just like to say thank you for a tremendous
    post and a all round interesting blog (I also love the theme/design), I don’t
    have time to browse it all at the minute but I have book-marked it and also included your RSS feeds, so when I
    have time I will be back to read a great deal more, Please do
    keep up the great jo.

    Reply
  3. porn Videos

    After going over a few of the blog articles on your site, I seriously like your way
    of writing a blog. I book-marked it to my bookmark website list and will be checking
    back in the near future. Please visit my website
    too and tell me what you think.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *