आत्मा और भूत में अंतर, best horror stories of all time

(best horror stories of all time)

सबसे पहले तो आत्मा और भूत में अंतर समझना जरूरी है आत्मा के तीन प्रकार होते है जीव आत्मा प्रेतात्मा और सूक्ष्मात्मा, आत्मा इंसान के शरीर में हमेशा रहती है जब आत्मा भौतिक व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करती है |

आत्मा और भूत में अंतर, best horror stories of all time
best horror stories of all time

best horror stories of all time, horror stories online

तब जीवात्मा होती है, horror stories online जैसे ही उसका प्रवेश कामना से भरे, इच्छाओं और वासनाओं से भरे शरीर में होता है वह प्रेतात्मा बन जाती है। इससे आपको भूत और प्रेत में फर्क समझ आ गया होगा, भूत सबसे शुरूआती पद है|

यानी जब को सीधा साधा आम आदमी मरता है तो वह सबसे पहले भूत ही बनता है। और जब वह व्यक्ति कोई लालसा, इच्छा और आकांशा लेकर मरता है तो वह प्रेत बन जाता है। भूत की बहुत सारी जातियां होती है |

जैसे भूत, फिर प्रेत, फिर पिचाश , राक्षस वगेरह। ऐसे ही जब कोई शादीशुदा महिला मरती है तो वो चुड़ैल बनती है, कुंवारी लड़की देवी बनती है और अगर बुरे कर्म और बुरी आदतों वाली स्त्री मरती है तो वो डायन बनती है। short story – horror stories

Horror stories online, short story, horror stories, scary horror stories animated in hindi

आपने तो सुना ही होगा की इंसान 84 लाख योनियां जीने के बाद इंसान बनता है। मारने के बाद आत्माएं भूत या प्रेत योनि में जाती ही है scary horror और वहां जाकर वह बहुत ताकतवर और बलवान बन जाती है। कुछ तो पूरी 84 लाख योनियां जीते है और कुछ सीधे ही गर्भ धारण करके फिर से इंसान बन जाते है। ये सब प्रेत की ताकत पर निर्भर करता है

और ताकत उनके कर्मों पर निर्भर करती है। मरने के बाद प्रेत योनि में जाने का मुख्य कारण तीर्व आकांशाओं और इच्छाओं की अतृप्ति है। नार्मल लाइफ में भी देखा जाता है जब आपके मन में कोई नयी योजना या कुछ करने का विचार आता है |

तो उसके पूरा करने तक इंसान बैचैन हो जाता है और अगर किसी कारण से वो इच्छा या लालसा पूरी नहीं हो पा रही है या हमे लगता है की हमारी ये योजना या इच्छा अधूरी रह जाएगी तो हमारी कई रातों की नींद उड़ जाती है।

यही बात है इच्छाओं से भरे लोग ना शांत रह पाते, ना चैन से सो पाते जब तक की उस कामना की पूर्ती नहीं होती वे उग्र ही बने रहते है। scary horror stories animated in hindi प्रेत योनि भी ऐसी ही अशांति और अतृप्त स्तिथि से भरी जीवन दशा का नाम है।

ऐसे ही जब किसी वासना और लालसा से भरे व्यक्ति की मृत्यु होती है जिसकी तीव्र इच्छाएं पूरी नहीं हुई है जिसकी आत्मा अतृप्त है उसे मृत्यु के बाद कई सालों तक भूत-प्रेत की योनि में रहना पड़ता है। और फिर वह सिर्फ अशांत सा भटकता रहता है |

और घरवालों को परेशान करता है वह बुरा बन जाता है। क्योंकि अतृप्त इंसान सदैव दूसरों से जलता है, दूसरों से ईर्ष्या करता है, जीते जी उसके पास इतनी ताकत नहीं होती की वह दूसरों को परेशान कर सके, लेकिन वह प्रेतात्मा बनने के बाद घरवालों को परेशान करते है |

इसी लिए श्राद्ध और ऐसे ही अन्य कार्य किये जाते है ताकि उनकी मृत और अतृप्त आत्माओं को शांति मिल सके। जो व्यक्ति भूखा, प्यासा मरता है, सम्भोग सुख से वंचित रहकर मरता है, गुस्सा, लोभ, वासना आदि लेकर मरता है |

वह निश्चित तौर पर भूत बन कर भटकता रहता है। जो इंसान एक्सीडेंट में, आत्महत्या करके या जिसकी हत्या की गयी हो ऐसे लोग भी भूत बनकर भटकते रहते है। ये भूत प्रेत हमेशा भटकते रहते है इन्हें शांति नहीं मिलती है इन्हें खाने और पीने की बहुत इच्छा और लालसा रहती है लेकिन इन्हें तृप्ति नहीं मिल पाती है।

ये किसी घर में या जंगलों में भटकते रहते है और मुक्ति दिलाने वाली की खोज करते रहते है। कहते है भूत ज्यादा शोर, उजाले आदि से दूर रहते है best horror stories of all time ये ज्यादा उन स्थानों में रहना पसंद करते है जहाँ से इनके जीवन काल में ज्यादा सम्बन्ध रहा हो या तो फिर किसी एकांत स्थान पर जहाँ ज्यादा कोई आता जाता ना हो।

भूत की ताकत : भूत प्रेत अदृश्य होते है यानी दिखाई नहीं पड़ते है, ये शरीर रहित होते है क्योंकि ये प्रायः वायु समेत 16 तत्वों से बने होते है। जिन भूतों को अपनी इस शक्ति का पता होता है वे इसे इस्तेमाल करना जानते है।

कुछ भूतों को दूसरों को टच करने की शक्ति होती है और कुछ को नहीं होती। जिनकों होती है वे बड़े से बड़े पेड़ और खम्बों को भी उखाड़ कर फैंक सकते है। अगर ये बुरे भूत हुए तो बहुत ही खतरनाक साबित होते है।

(new horror story) ऐसे भूत किसी भी इंसान को अपने होने का अहसास करवा सकते है। इतना ही नहीं ऐसे बुरे भूत किसी की मानसिक स्तिथि से खेल कर उससे कुछ भी करवा सकते है इतनी ताकत रखते है। इनपर गोली, तलवार, डंडे का असर नहीं होता है |

क्योंकि ये वायु जैसे तत्वों से बने होते है अच्छी और बुरी आत्माएं दोनों ही ऐसे लोगों को तलाश करती है जो उनकी वासनाओं की पूर्ती कर सके। अच्छी आत्माएं अच्छे कर्म करने वाले की तलाश करती है उसी के अनुरूप आत्मा उनमें प्रवेश करती है और तृप्त होकर उसे भी तृप्त करती है। अधिकतर लोगों को इस बात का पता ही नहीं चल पाता है।

बुरी आत्माएं बुरे इंसान के माध्यम से तृप्त होकर उसे और बुराई, कुकर्म करने के लिए प्रेरित करती है और उस इंसान को पता ही नहीं चल पाता की कोई दूसरी शक्ति उसपर राज कर रही है और उसे बुरे कर्मों में लिप्त कर रखा है।

इसीलिए धार्मिक होना, भगवान् की पूजा पाठ आदि में लिप्त होना जरूरी है ऐसा बताया गया है ताकि आपका मन, गुण आपके कर्म पवित्र और साफ़ हो। school horror stories तभी आप ऐसी आत्माओं से बचे रह सकते है।

read more stories

इरम की ज़िंदगी का आखिरी सफर, bhutiya kahani

10 Famous Bollywood Actors Who Died Recently – Irrfan Khan, Rishi Kapoor – 2020, in Hindi

Kahani ढिंचैक बहू, Story in Hindi, Hindi Story, Moral Stories, Bedtime Stories, New Kahaniya

जादुई एटीएम | Magical ATM, Moral Stories, Bedtime Stories, Hindi Kahaniya

दुष्टता का फल – moral story in hindi |hindi kahani | hindi | panchatantra stories in hindi

No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: